Vocational Course Kya Hai | Vocational Course Kya Aata Hai

Vocational एजुकेशन और ट्रेनिंग एक जॉब एरिएन्टेट टेक्निकल ट्रेनिंग कोर्स है। जिसके जरिये स्टुडंट एक स्पेसिफिक करीयर ओपोर्तुनिटी को पसंद करते है। इसका मतलब ऐ हुवा की आप किस पर्टिकुलर फिल्ड में इंट्रेस्टेड हो और आपको पसंद है और उसे जुडी स्किल सिख कर आप उस फिल्ड में आपने करीयर बनाना चाहे तो आप उस फिल्ड से रिलेटेड वोशनल कोर्सेस कर सकते है। इस तरह के कोर्स में ट्रेनिंग, इंस्ट्रक्शन और क्लासिस इंक्लूड होती है। और इस कोर्स को करने के बाद आपको सर्टिफिकेट और डिप्लोमा मिलता है। वोकेशनल कोर्स को ऑक्यूपेशन और टेक्निकल कोर्स भी कहते है। Vocational कोर्स traditional कोर्स से किस तरीके से अलग है ऐ जान लेना भी यहाँ पे बहत जरुरी है। शरू करते है Vocational Course Kya Hai.

Vocational और traditional course का difference  क्या है?

Ba , Bcom ,BSC और engineering जैसे कोर्सेस ट्रेडिशनल कोर्स की कैटगरी में आते है। ऐसे कोर्सिस में से ज्यादातर में क्लासरूम टीचिंग मोडल को फॉलो करते है। इस तरह की कोर्सेस में स्टुडंट को सब्जेक्ट ज्ञान , थिओरिस और कॅश स्टडी की फॉर्म दी जाती है। और प्रैक्टिकल ज्ञान उन्हें केवल इंटेनशिप के दौरान मिलता है।

तो इंटेनशिप में मिली प्रैक्टिकल नौलागे कई बार इस स्टूडेंट को कन्फुज करदेती है क्यों की औ उनकी थिओरिटिक्ल नॉलेज से मैच नहीं करती इसके ऑपोसिट वोकेशनल कोर्स में स्टूडेंट को स्पेसिफिक फिल्ड की ट्रेनिंग दी जाती है ताकि उसमे प्रैक्टिकल स्किल को डेवेलोप करसके।

इसतरह के कोर्सेस में स्टूडेंट को ऑनलाइन साइट एक्सपीरिएंस मिलता है और क्लास रूम लेक्चर काफी काम होते है ऐ कोर्सेस इस तरीकेसे डिज़ाइन किये गए है की जब स्टूडेंट ग्रजुएट होजाये तो औ जॉब के लिए पूरी तरीकेसे त्यार हो जो जॉब मिलने की पॉसिबिलिटी को बहोत अच्छेछे बड़ा सके ट्रेडिशनल कोर्सेस का टाइम ज्यादा होता है और वोकेशनल कोर्सेस का टाइम काम होता है।

इस तरह के ज्यादा तर कोर्सेस में हाई स्कूल पास होना जरुरी होता है और इंग्लिश और मैच की बेसिक नॉलेज जरुरी समाज मणि जाती है। कुछ कोर्सेस ऐसे भी होते है जीने १० क्लास से काम पड़े लिखे लोग भी कर सकते है तो इतने डिफ्रेंस के बाद ज्यादातर स्टूडेंट ट्रेडिशनल कोर्सेस को ही पसंद करते है।

क्यों की ऐ एक कॉमन बिलीफ है। की इन ट्रेडिशनल कोर्सेस को करने के बाद अछि जॉब मिले क्यों की ऐ कोर्सेस डिग्री प्रोवाइड करते है जब की वोकेशनल कोर्सेस डिप्लोमा ऑफर करता है। इस डिफ्फर्नस होने के बावजूद वोकेशनल कोर्सेस का बहोत अच्छा स्कोप होने के बावजूत भी उन्हें इतनी इम्पोर्टेन नहीं मिलपाई है।

Vocational Course के फायदे

  • इस कोर्स को कम्पलीट करने के साथ ही स्टूडेंट जॉब के लिए त्यार होजाता है
  • ऐ कोर्स आपको ट्रेडिशनल नॉलेज के साथ वोकेशनल स्किल भी प्रोवाइड करता है।
  • यह कोर्स का मैं फोकस स्पेसिलायस नॉलेज पर होता है।
  • कोर्स में दी जाने वाली ट्रेनिंग इन्दुस्ट्रीमे देने जाने वाली ट्रेनिंग से मैच होती है।
  • यह कोर्स स्टूडेंट को ग्लोबल मार्किट में चलने वाले ट्रेंड की प्रति अवैर बनाता है।
  • इस कोर्सेज का टाइम काम होता है।
  • यह कोर्सेज उस इंडस्ट्री की डिमांड को ध्यान में रखते हुवे डिज़ाइन होते है।
  • इस कोर्सेस को ऑनलाइन भी किया जा सकता है।
  • health care , web designing , graphic , food technology , cosmetology ये कोर्सेस कर सकते है।

Vocational Course Kya Hai

इसके आलावा आपको वोकेशनल कोर्स में आपको टेक्निकल वर्क जैसे automotive repair , plumbing और air conditioning जैसे ऑप्शन भी मिल जायँगे। इन वोकेशन कोर्सेस में डिप्लोमा लिया जासकता है Tele Communication , Computer science , Electrical
Engineering, Event Management, Catering Management, और Food Preservation और इन तरह की वोकेशनल कोर्सेस में आप सर्टिफिकेट कोर्सेस भी करसकते है जैसे की House Keeping, Hair Design, Beauty Culture, Office Management, Clinical Nutrition और Corporate Communication।

तो अब आपको वोकेशनल कोर्सेस के बारेमे जानकारी मिलगई है। और आप इन कोर्सेस की इम्पोर्टेंस को भी समाज गए होंगे। साथ ही आपको एभी पता चला होगा की भले ही ऐ कोर्सेस जॉब ओरिएन्टेड होते है लेकिन फिर भी ट्रेडिशन कोर्सेस से पीछे ही रहते है हाला की बीते कुछ समय में इन कोर्सेस थोड़ी ज्यादा इम्पोर्टेंस मिलने लगी है और अगर ऐ कोर्सेस करने के साथ आप उस एरिया की एक्स्ट्रा आर्डिनरी स्किल भी हो तो आपका ऐ कोर्स आपको बहोत अच्छी पोजीशन पहोचा सकता है इस लिए वोकेशनल कोर्स करते समय भी कोईभी फिल्ड पसंद कर सकते है जो आपको पसंद है।

Leave a Comment